Home Blog सेंसेवेरिया

सेंसेवेरिया

by Dr Shambhu Kumar Singh

यह है स्नेक प्लांट !

इसे “mother in law’s tongue” भी कहते हैं । पता नहीं क्यों कहते हैं ? सासू माँ की तो इतनी लंबी जुबान नहीं होती ! विदेशी नाम है । विदेश में शायद ऐसा होता हो ? हाँ , पर यहाँ एक की इतनी ही लम्बी जुबान होती है । पर किसकी ,वह नहीं कहूंगा! अभी घर पर ही हूँ तो कहने में खतरा है !
पर जब घर पर हूँ तो बता दूं कि इस “सासू माँ की लंबी जुबान” (हिंदी अनुवाद) को घर में जरूर रखें । यह हवा को स्वस्थ रखता है । विषैली गैसों को सोखता है । ऑक्सीजन को छोड़ता है । एक व्यक्ति हेतु एक गमला काफी है ।
मेरे ड्रॉइंग रूम में रखा यह पौधा नाम का ही स्नेक प्लांट है । क्योंकि “आस्तीन का सांप” या “बेडरूम की नागिन” तो सबके पास होगी ही तो यह बेचारा पौधा बेवजह ही बदनाम है ।
खैर बहुत हो गया मज़ाक !
सीरियसली बोलता हूँ ,ऐसा एक दो प्लांट जरूर अपने घर में रखें !
वायु प्रदूषण को नियंत्रित कुछ हद तक जरूर कर पाएंगे !

प्रकृति मित्र

डॉ. शंभु कुमार सिंह
5 जून ,21
पटना
💚💚

Related Articles

Leave a Comment